Connect with us

जींद

जींद में वेंटिलेटर न मिलने से महिला की मौत; सोनीपत में बिना मंजूरी इलाज कर रहे अस्पताल में 3 ने दम तोड़ा

Published

on

Advertisement

जींद में वेंटिलेटर न मिलने से महिला की मौत; सोनीपत में बिना मंजूरी इलाज कर रहे अस्पताल में 3 ने दम तोड़ा

 

प्रदेश में 24 घंटे में 179 स्टूडेंट्स समेत कोरोना के 6990 नए मरीज मिले हैं। सोनीपत के डीसी श्याम लाल पूनिया भी संक्रमित हो गए हैं। नए मरीजों की संख्या में लगातार दूसरे दिन कमी आई है। रोहतक पीजीआई के एक डॉक्टर समेत 36 संक्रमितों की मौत हो गई। मौतों का यह आंकड़ा 137 दिन में सर्वाधिक है।

Advertisement

सक्रिय मरीज बढ़कर 46,589 हो गए हैं। इनमें 14561 अस्पतालों में भर्ती हैं। 27,614 हाेम आइसोलेशन में हैं। वहीं, सरकारी आंकड़ों में गंभीर मरीजों की संख्या छिपाने को लेकर दैनिक भास्कर में खबर प्रकाशित होने के बाद स्वास्थ्य विभाग ने माना है कि प्रदेश में 3419 गंभीर मरीज हैं। कोरोना संक्रमण से राज्य में भी हालात भयावह होते जा रहे हैं। जींद के सिविल अस्पताल में वेंटिलेटर बेड न मिलने से महिला ओमपति (70) की मौत हो गई।

परिजनों का आरोप है कि कर्मचारियों ने कहा कि यहां वेंटिलेटर बेड नहीं है, दूसरी जगह ले जाओ। परिजन महिला को घर ले आए और रोहतक-हिसार में अपने स्तर पर बेड खाली होने की जानकारी ली, लेकिन कहीं बेड खाली नहीं बताए गए। इसी दौरान महिला ने दम तोड़ दिया।

Advertisement

जन्म होते ही मां से दूर करने पड़े मासूम फाेटाे | सुमित कुमार - Dainik Bhaskar

वहीं, सोनीपत में प्रशासन की बिना परमिशन लिए कोरोना मरीजों का इलाज कर रहे एक निजी अस्पताल में 3 लोगों की मौत हो गई। परिजनों का आरोप है कि वेंटिलेटर बेड पर्याप्त होने की बात कहकर मरीज भर्ती किए, लेकिन वेंटिलेटर पर नहीं रखे गए। सिविल सर्जन ने जांच के लिए कमेटी बनाई है। अस्पताल के निदेशक डॉ. विपिन सांगवान ने कहा कि सभी आरोप गलत हैं।

Advertisement

रोहतक पीजीआई में कोरोना संक्रमित 2 महिलाओं की डिलीवरी

जन्म होते ही मां से दूर करने पड़े मासूम

राेहतक, पीजीआई रोहतक के ट्रामा सेंटर में सोमवार को काेराेना संक्रमित दाे महिलाओं की डिलीवरी हुई। जिन नवजातों ने सही से आंखें भी नहीं खोलीं, उन्हें संक्रमण के डर के कारण मां से अलग करना पड़ा। दाेनाें नवजात काे निक्कू वार्ड में शिफ्ट किया गया है।

सोनीपत में 3 मौतें दिखाईं, पर कोविड-प्रोटोकॉल से 11 दाह संस्कार

स्वास्थ्य विभाग ने सोमवार को सोनीपत में कोरोना से 3 मौतें दिखाईं। जबकि कोविड-प्रोटोकॉल से 11 दाह संस्कार हुए। 9 मृतकों का सेक्टर-15 स्थित शिव मुक्तिधाम में, एक अटेरना गांव में, एक झज्जर में अंतिम संस्कार हुआ है। शिव मुक्तिधाम सचिव डॉ. डीएन मल्होत्रा ने बताया कि 18 अप्रैल को 5 कोरोना पॉजिटिव शव आए, जिनका देर रात 12 बजे तक संस्कार किया गया। सोमवार को 9 लोगों का अंतिम संस्कार कोरोना प्रोटोकॉल से हुआ।

अचानक शव संख्या बढ़ने पर मशीन से काम नहीं चल पा रहा है। ऐसे में नगर निगम कमिश्नर से अनुमति लेकर लकड़ियों से अंतिम संस्कार किए जा रहे है। इनके अलावा सोमवार को दो कोविड संदिग्ध के और पांच सामान्य संस्कार हुए।

हाई लेवल कमेटी की बैठक में फैसला

आज से इलेक्टिव सर्जरी बंद, आधार से मिलेगा रेमडेसिविर

  • संक्रमण रोकने के लिए हाई लेवल मॉनिटरिंग कमेटी की सोमवार को पहली बैठक हुई। इसमें फैसला लिया गया कि मंगलवार से इलेक्टिव सर्जरी बंद होंगी। रेमडेसिविर इंजेक्शन की खरीद के लिए आधार कार्ड अनिवार्य होगा।
  • ऑक्सीजन की कालाबाजारी रोकने को ऑक्सीजन प्लांटों पर पुलिस व ड्रग विभाग का पहरा रहेगा। हर मेडिकल कॉलेज में क्रिटिकल कोरोना केयर सेंटर बनेगा।
  • होम आइसोलेट मरीजों की हर दो दिन में जांच की जाएगी व ऑक्सोमीटर-दवा की किट दी जाएगी। अब आयुष डॉक्टरों की भी कोरोना के इलाज में ड्यूटी लगेगी।
  • कुंभ से आने वालों की टेस्टिंग होगी। निजी अस्पतालों में हर संदिग्ध मरीज की जांच अनिवार्य की है। धरने पर बैठे किसानों की मंगलवार से टेस्टिंग व टीकाकरण होगा।
  • पूरे प्रदेश को सैनिटाइज किया जाएगा। नाइट कर्फ्यू में सख्ती के लिए जिला स्तर पर मॉनिटरिंग कमेटी बनेगी।

किसी नेता ने भीड़ जुटाई तो होगी कार्रवाई, मेलों पर रोक

  • स्वास्थ्य मंत्री अनिल विज ने कहा कि पक्ष हो या विपक्ष, सभी के लिए नियम समान हैं। किसी भी नेता ने भीड़ जुटाई तो कार्रवाई होगी। इनडोर में सार्वजनिक कार्यक्रमों, मंदिर, मस्जिद, गुरुद्वारे समेत सभी धार्मिक स्थलों में 50 से ज्यादा लोग नहीं जुटेंगे।
  • मेलों पर प्रतिबंध लगा दिया है। अष्टमी व रामनवमी के कार्यक्रमों में भी भीड़ के नियमों का पालन करना होगा।
  • विज बोले, ‘लॉकडाउन नहीं लगेगा, श्रमिक पलायन न करें। 

    Source : Bhaskar

Advertisement

Continue Reading
Advertisement
Click to comment

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *