Connect with us

City

दिन-रात चलेगा काम, शहर को जल्द मिलेगी 4 लेन रोड और मिलेगी जाम से राहत

Published

on

Advertisement

दिन-रात चलेगा काम, शहर को जल्द मिलेगी 4 लेन रोड और मिलेगी जाम से राहत

गाेहाना राेड वासियों समेत पूरे शहरवासियाें के लिए अच्छी खबर है। शहर प्रमुख विकास कार्याें में शामिल गाेाहना राेड फोरलेन निर्माण की सबसे बड़ी बाधा हट गई है। इस प्रोजेक्ट के पूरा हाेने में बिजली निगम के 200 से ज्यादा खंभें और करीब 7 ट्रांसफार्मर सबसे बड़ी बाधा बने हुए थे। इन खंभाें व ट्रांसफार्मरों की शिफ्टिंग का काम मंगलवार काे शुरू हाे गया है। पीडब्ल्यूडी व बिजली निगम अधिकारियों का दावा है कि खंभाें की शिफ्टिंग का काम जल्दी ही पूरा कर दिया जाएगा।

Advertisement

बिजली निगम के एसई एसएस ढुल का कहना है कि खंभाें काे शिफ्ट करने से पहले पूरी तरह से सभी प्वाइंट्स काे सूचीबद्ध किया है। इसमें विशेष रूप से ध्यान रखा है कि एक खंभा दुकानदार या किसी के कार्यालय के गेट के सामने न आने पाए। ये पूरी फिजिब्लिटी के साथ शिफ्ट किए जा रहे हैं। इसके बाद भी ऐसे कामाें में कई लाेग बाधा बनकर खड़े हाे जाते हैं। इसलिए सभी से आग्रह है कि सहयोग करें। जितना सहयोग हाेगा, उतनी ही जल्दी सभी खंभे शिफ्ट हाेंगे और सड़क निर्माण भी पूरा हाेगा।

अब काम पूरा हाेने में नहीं बरती जाएगी ढील : ठेकेदार

Advertisement

ठेकेदार मंदीप नैन ने दावा किया कि अब काम में किसी भी प्रकार से ढील नहीं बरती जाएगी। सड़क निर्माण तय समय में पूरा हाेने में सबसे बड़ी बाधा ये बिजली के खंभे ही थे। इनके शिफ्ट हाेते ही काम काे दिन रात एक करके बहुत ही तेज गति से पूरा करने का हर संभव प्रयास किया जाएगा। जीटी राेड से बिंझाैल नहर नाका तक करीब 3 किलोमीटर सड़क काे फोरलेन बनाने बनाने के लिए 13.17 कराेड़ रुपए का बजट जारी हुआ है।

जल्दी काम पूरा करें, राेजगार फिर पटरी पर आएगा : एसोसिएशन

Advertisement

गाेहाना राेड वेलफेयर एसोसिएशन प्रधान ललित गाेयल, उप प्रधान सुरेश सैनी, सचिव याेगेश गाेयल, रामकुमार, साेनू गर्ग, लक्की, अश्वनी, दिनेश अग्रवाल, नवीन गाेयल व दिनेश बंसल ने कहा कि खंभाें की शिफ्टिंग की मांग काे लेकर शहरी विधायक प्रमाेद विज, सांसद संजय भाटिया व डिप्टी सीएम दुष्यंत चाैटाला तक काे शिकायत की थी। अब खंभे हटने शुरू हाे गए हैं। स्थानीय निवासियों व दुकानदारों की परेशानी समझते हुए सड़क निर्माण जल्दी पूरा कराया जाए, ताकि ठप हुए रोजगार दाेबारा पटरी पर आ सकें।

Advertisement